Politics

बदले सूर अकाली दल के नेता बादल के, कहा- धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों से छेड़छाड़ कर देगा देश को कमजोर

शिरोमणि अकाली दल (बादल) के संरक्षक प्रकाश सिंह बादल ने नाम लिए बिना केंद्र सरकार और भाजपा पर बड़ा हमला बोला है। दिल्ली विधानसभा चुनाव न लड़ने वाले अकाली दल के संरक्षक बादल ने कहा कि यह गंभीर चिंता का विषय है कि देश की वर्तमान स्थिति अच्छी नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर आपको सरकार चलाने में सफल होना है तो अपने सहयोगियों और अल्पसंख्यकों को साथ लेकर चलना होगा। सभी देशवासी खुद को एक परिवार का हिस्सा मानते हैं और सभी धर्मों का सम्मान होना चाहिए।

वह प्रदेश की कैप्टन सरकार के खिलाफ राजासांसी में आयोजित रोष रैली को संबोधित कर रहे थे। बादल ने कहा कि अकाली दल पहले से ही चाहता था कि मुसलमानों को सीएए में शामिल किया जाए। यह एक ऐसा कानून है जो पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों को भारत में नागरिकता दे सकता है। देश में सभी धर्मों के लोगों को एक-दूसरे को गले लगाना चाहिए।

बादल ने कहा कि केंद्र और राज्यों में सत्तासीन लोगों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि देश को संविधान में निहित धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक लोकाचार के अनुसार सख्ती से चलाया जाए। संविधान में लिखा है कि देश में धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक शासन होगा। धर्मनिरपेक्षता के पवित्र सिद्धांतों से छेड़छाड़ हमारे देश को कमजोर कर सकती है। सभी को एकजुट होकर काम करना चाहिए, ताकि भारत को धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र के रूप में सुरक्षित और संरक्षित किया जा सके।

कैप्टन जनता के साथ किए गए वादों को पूरा करें

बादल ने कहा कि पंजाब के लोग मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की ओर से किए गए धोखे को अब सहन नहीं करेंगे। कैप्टन चुनावों के दौरान पंजाब की जनता के साथ किए गए वादों को पूरा करें नहीं तो अपनी कुर्सी को छोड़ दें। अकाली दल से निष्कासित किए गए नेताओं सुखदेव सिंह ढींडसा और रंजीत सिंह ब्रह्मपुरा को भी बादल ने कोसा।

सत्ता में आए तो गरीबों को मुफ्त देंगे 400 यूनिट बिजली: सुखबीर

प्रकाश सिंह बादल अजनाला में पार्टी की रैली के बाद श्री हरिमंदिर साहिब माथा टेकने पहुंचे। बीमार होने के कारण वह श्री हरिमंदिर साहिब के अंदर नहीं गए, बल्कि बाहर से ही नाम सिमरन कर दर्शन करके वाहे गुरु का शुकराना अदा किया।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *